A PHP Error was encountered

Severity: Warning

Message: json_decode() expects parameter 1 to be string, array given

Filename: helpers/youtube_helper.php

Line Number: 571

A PHP Error was encountered

Severity: Warning

Message: Cannot modify header information - headers already sent by (output started at /home/httpd/up-tube.com/content/html/system/core/Exceptions.php:185)

Filename: libraries/Tracker.php

Line Number: 47

Tum Ek Gorakh Dhanda Ho | Nusrat Fateh | Haq Ali Ali Mula Ali Ali Manqabat By Nusrat Fateh - At Up-Tube.com

Tum Ek Gorakh Dhanda Ho | Nusrat Fateh Haq Ali Ali Mula Ali Ali Manqabat by Nusrat Fateh 11 months ago   30:30

Pak Sufi
Facebook: http://www.facebook.com/PakSufi
WordPress: http://paksufi.wordpress.com/
Google+: https://www.google.com/+PakSufi
Youtube: http://www.youtube.com/c/PakSufi

Lyrics and translation credits:

https://www.scribd.com/doc/4957208/Tum-Ik-Gorakh-Dhanda
http://gardenofshades.uiams.com/2011/02/tum-ik-gorakh-dhanda-ho.html
https://up-tube.com/upvideo/ViMex6zdFL8

Comments 30 Comments

Purushottam Kunwar
कभी यहाँ तुम्हें ढूँढा, कभी वहाँ पहुँचा
तुम्हारी दीद की ख़ातिर कहाँ-कहाँ पहुँचा
ग़रीब मिट गए, पामाल हो गए लेकिन
किसी तलक न तेरा आज तक निशां पहुँचा





हो भी नहीं और, हर जा हो
हो भी नहीं और, हर जा हो
तुम इक गोरख धन्दा हो!


हर ज़र्रे में किस शान से तू जल्वा-नुमा है
हैरां है मगर अक़्ल के कैसा है तू, क्या है?
तुम इक गोरख धन्दा हो!

तुझे दैर-ओ-हरम में मैंने ढूँढा तू नहीं मिलता
मगर तशरीग-फ़र्मा तुझे अपने दिल में देखा है!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

ढूँढे नहीं मिले हो, न ढूँढे से कहीं तुम
और फिर ये तमाशा है जहाँ हम हैं वहीं तुम!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

जब बजुज़ तेरे कोई दूसरा मौजूद नहीं
फिर समझ में नहीं आता तेरा पर्दा करना!
तुम इक गोरख धन्दा हो!



जो उल्फ़त में तुम्हारी खो गया है
उसी खोए हुए को कुछ मिला है
नहीं है तू तो फिर इनकार कैसा?
नफ़ी भी तेरे होने का पता है


मैं जिसको कह रहा हूँ अपनी हस्ती
अगर वो तू नहीं तो और क्या है?
नहीं आया खयालों में अगर तू
तो फिर मैं कैसे समझा तू खुदा है?
तुम इक गोरख धन्दा हो!

हैरां हूँ इस बात पे तुम कौन हो क्या हो?
हाथ आओ तो बुत, हाथ न आओ तो ख़ुदा हो!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

अक़्ल में जो घिर गया ल-इन्तहा क्योंकर हुआ?
जो समझ में आ गया फिर वो ख़ुदा क्योंकर हुआ?
तुम इक गोरख धन्दा हो!


छुपते नहीं हो सामने आते नहीं हो तुम
जल्वा दिखाके जल्वा दिखाते नहीं हो तुम

दैर-ओ-हरम के झगड़े मिटाते नहीं हो तुम
जो अस्ल बात है वो बताते नहीं हो तुम
हैरां हूँ मेरे दिल में समाए हो किस तरह?
हालांके दो जहाँ में समाते नहीं हो तुम!

ये माबाद-ओ-हरम, ये कलीसा, वो दैर क्यों?
हर्जाई हो तभी तो बताते नहीं हो तुम!
तुम इक गोरख धन्दा हो!


दिल पे हैरत ने अजब रँग जमा रखा है!
एक उलझी हुई तसवीर बना रखा है!
कुछ समझ में नहीं आता के ये चक्कर क्या है?
खेल क्या तुमने अज़ल से ये रचा रखा है!


रूह को जिस्म के पिंजरे का बनाकर कैदी
उसपे फिर मौत का पहरा भी बिठा रखा है!
ये बुराई, वो भलाई, ये जहन्नुम, वो बहिश्त
इस उलट-फेर में फ़र्माओ तो क्या रखा है?
अपनी पहचान की खातिर है बनाया सबको
सबकी नज़रों से मगर खुद को छुपा रखा है!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

राह-ए-तहक़ीक़ में हर ग़ाम पे उलझन देखूँ
वही हालात-ओ-खयालात में अनबन देखूँ


बनके रह जाता हूँ तसवीर परेशानी की
ग़ौर से जब भी कभी दुनिया का दर्पन देखूँ
एक ही ख़ाक़ पे फ़ित्रत के तजादात इतने!
इतने हिस्सों में बँटा एक ही आँगन देखूँ!



कहीं ज़हमत की सुलग़ती हुई पत्झड़ का समा
कहीं रहमत के बरसते हुए सावन देखूँ


कहीं फुँकारते दरिया, कहीं खामोश पहाड़!
कहीं जंगल, कहीं सहरा, कहीं गुलशन देखूँ
ख़ून रुलाता है ये तक़्सीम का अन्दाज़ मुझे
कोई धनवान यहाँ पर कोई निर्धन देखूँ

दिन के हाथों में फ़क़त एक सुलग़ता सूरज
रात की माँग सितारों से मुज़ईय्यन देखूँ



कहीं मुरझाए हुए फूल हैं सच्चाई के
और कहीं झूठ के काँटों पे भी जोबन देखूँ!

रात क्या शय है, सवेरा क्या है?
ये उजाला, ये अंधेरा क्या है?

मैं भी नायिब हूँ तुम्हारा आख़िर
क्यों ये कहते हो के "तेरा क्या है?"
तुम इक गोरख धन्दा हो!


जो कहता हूँ माना तुम्हें लगता है बुरा सा
फिर भी है मुझे तुमसे बहर-हाल ग़िला सा
हर ज़ुल्म की तौफ़ीक़ है ज़ालिम की विरासत
मज़लूम के हिस्से में तसल्ली न दिलासा


कल ताज सजा देखा था जिस शक़्स के सर पर
है आज उसी शक़्स के हाथों में ही कासा!
यह क्या है अगर पूछूँ तो कहते हो जवाबन
इस राज़ से हो सकता नहीं कोई शनासा!

तुम इक गोरख धन्दा हो!!
Jatinder09463124125 Singh
😍😍😗😗😙😙😘😘😚😚🙏🙏🙏🙏🙏❤❤❤❤❤💚💚💚💝💝💝💝👍👍👍👌👌👌👏👏👏👏👑👑👑👑👑👑👑👑👑👑👑🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅😇😇😇😇😇😇😇😇😇😇😇😇
Time Killer
14:05 Masha'Allah
King Bahi
Ustad Nusrat fhaty ail Khan
Nice
Babar Ali
Who is wacthing 2019 Nov
Umair Munier
Hazrat adam say pbuhm tak or waqya qarbla Ka tazkra wa khan g wa
Yasim Raza Ch
ماشاللہ کلام کی گہرائی میں جا کر دیکھا تو پتہ چلا کیا الفاظ ہیں
insaf ali
सुपर
Fasail Bukari
Beautiful voice. And qawali
Shoaib Bhalli
Superb any one listening in sept 2019?
Hm Pathan
Beautiful
CN STUDY POINT
What a great voice khansaheb
Dhuninath Satsang
Aap Gorakh dhanda sabad ka prayog kaise shuru hua ye jaan sakte h plz click link https://hi.m.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%97%E0%A5%8B%E0%A4%B0%E0%A4%96_%E0%A4%A7%E0%A4%82%E0%A4%A7%E0%A4%BE
Noumana Sarwat
I am speechless. Its something outclassed. I don't think so ever anyone can write something same.
Gujranwala
nusrat fateh ali khan qawwali ali maula ali maula
Gujranwala
dam mast Qalandar nusrat fateh ali khan qawwali with english translation
Tabiya Khan
magar Allah se itna bara skikwa Or wo har bt pe 👎
Zardav K
I understand a lot of you listen to stuff like this to fulfill your spiritual needs. But my brothers, there is nothing better than listening to and understanding the Quran. Its sweetness is unsurpassed. Mere bhaio yeh kano ko to achi lagti hai par kufr ki inteha hai. Kufr ke aur kiya kalam ho sakte hain?? Astaghferollah. Qul huwAllahu Ahad. Allah usSamad. Lam yalid walam yulad. Walam yakullahu kufwan ahad.

"Then what is your assumption about the Sustainer of the Worlds"?
https://quran.com/37/87
Mehar Shafiq
Mashallah Allah bless you
falsh file free
Mashalah subhanlah
Add Reply

Haq Ali Ali Mula Ali Ali Manqabat by Nusrat Fateh Tum Ek Gorakh Dhanda Ho | Nusrat Fateh 11 months ago   27:43

Ali imaam-e-manasto manam Ghulaam-e-Ali
hazaar jaan-e-giraamii fidaa-e-naam-e-Ali

Haidariam qalandaram mastam
bandaa-e-Murtaza Ali hastam
peshvaa-e-tamaam virdaaram
ke sage kuu-e-sher-e-yazdaanam

Kabhii diivaar hiltii hai, kabhii dar kaaNp jaataa hai
Ali kaa naam sun kar ab bhii Khaibar kaaNp jaataa hai

Shaah-e-mardaaN Ali
Ali Ali Ali
Ali Maula Ali

Patthar pe alam deen ka gaaRaa jisne
lalkaar kar Marhab ko pichaaRaa jisne

Haq
Ali Ali Ali
Ali Maula Ali

jap le jap le mere manvaa
yahii naam sacchaa hai pyaare
yahii naam tere sab dukh haare
isii naam kii barkat ne diye raaz-e-haqiiqat khol

shaah-e-mardaaN Ali
la fataa illah Ali
sher-e-yazdaaN Ali

Tan par Ali, Ali ho zubaaN par Al Ali
mar jauuN to kafan par bhii likhna Ali Ali

BaGhair hubb-e-Ali mudd'aa nahiiN miltaa
ibaadatoN kaa bhii hargiz silaa nahiiN miltaa
Khudaa ke bandoN suno Ghaur se Khudaa kii qasam
jise Ali nahiiN milte use Khudaa nahiiN miltaa

Basad talaash na ab kuch vus'at-e-nazar se milaa
nishaan-e-manzil-e-maqsuud raahbar se milaa
Ali mile to mile Khaana-e-Khudaa saa hameN
Khudaa ko dhuuNdha to vo bhi Ali ke ghar se milaa

Diid Haider kii ibaadat, hai ye farmaan-e-nabii
hai Ali ruuh-e-nabii, jism-e-nabii, jaan-e-nabii
gul-e-tathiir Ali
haq kii shamshiir Ali
piiroN ke piir Ali

Dast-e-ilaa kyuuN na ho sher-e-Khudaa Ali
maqsuud har ataa hai shah-e-laa-fataa Ali
jis tarah ek zaat-e-Muhammad hai be-misaal
paidaa hu'aa na hogaa ko'ii duusraa Ali
"Bedam" yahii to paaNch haiN maqsuud-e-qaaynaat
Khairunnisaa, Hasan, Hussain, Mustafaa, Ali

Haq
Ali Ali Ali
Ali Maula Ali

Related Videos